सोमवार, 5 अप्रैल 2010

नए दौर के क्रिया-कलाप देखकर मन कभी-कभी इतना क्षुब्ध हो जाता है कि बुजुर्गों के दिखाए हुए रास्तों का पुनरावलोकन करने का मन करता है। सोचने के बाद महसूस होता है कि हम आखिर कहाँ जा रहे हैं, किधर जा रहे हैं,क्या कर हे हैं और क्यों कर रहे हैं। इस दौर की इसी भटकन पर सहसा एक गीत बन गया। मन कर रहा है कि आप के साथ इसे साझा कर ही लिया जाय। तो प्रस्तुत है वही गीत आप की खिदमत में....

पुरखों वाला सीधा- सादा
रस्ता हमने छोड़ दिया
सच कहने वाला मन-दर्पण
जान-बूझकर तोड़ दिया

जंगल में थे जानवरों में
मगर जानवर नहीं हुए
नीरज दल की भांति नीर में
रहकर भी अनछुए रहे
अब शहरों में आकर जीवन
जंगलपन से जोड़ दिया

जिसमें जितनी अक्ल अधिक
लालच उतना विकराल हुआ
श्वेत , साफ परिधानों का
दामन शोणित से लाल हुआ
अर्थ-लाभ हित हिंसा-पथ पर
जीवन-रथ को मोड़ दिया

इन्द्रधनुष के झूठे वादों
ने तन-मन पर राज किया
पीतल पर सोने का पानी
हम सबने स्वीकार किया
सच की राह दिखाई जिसने
उसका हाथ मरोड़ दिया

तरुणाई का तन घायल है
अंगड़ाई का मन घायल
मन की निर्मलता का सच
बचपन का भोलापन घायल
इन घावों पर छल-फरेब का
नीबू-नमक निचोड़ दिया

काश! सत्य का बीज उगे फिर
मानव - मन की क्यारी में
फिर हो बचपन का भोलापन
गुड़ियों की रखवाली में
इसी स्वप्न ने कवि के मन को
फिर से आज झिंझोड़ दिया
सच कहने वाला....

16 टिप्‍पणियां:

  1. आपके ब्लोग पर आ कर अच्छा लगा! ब्लोगिग के विशाल परिवार में आपका स्वागत है! अन्य ब्लोग भी पढ़ें और अपनी राय लिखें! हो सके तो follower भी बने! इससे आप ब्लोगिग परिवार के सम्पर्क में रहेगे! अच्छा पढे और अच्छा लिखें! हैप्पी ब्लोगिग!

    उत्तर देंहटाएं
  2. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "टेक टब" (Tek Tub) पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    उत्तर देंहटाएं
  4. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    उत्तर देंहटाएं
  5. pital pr sone ka pani
    hm sbne sweekar kiya
    is bhagmbhag ke mahoul me is trha ki swikrokti ek imandar pryas hai . aaina dikhane ke liye bdhai evm dhanywad.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर कविता है .....शुभकामनाये ऐसे ही लिखते रहिये|

    उत्तर देंहटाएं
  7. Welcome to the blog World. Nice expressions. Keep sharing .

    उत्तर देंहटाएं
  8. " बाज़ार के बिस्तर पर स्खलित ज्ञान कभी क्रांति का जनक नहीं हो सकता "

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति.कॉम "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . अपने राजनैतिक , सामाजिक , आर्थिक , सांस्कृतिक और मीडिया से जुडे आलेख , कविता , कहानियां , व्यंग आदि जनोक्ति पर पोस्ट करने के लिए नीचे दिए गये लिंक पर जाकर रजिस्टर करें . http://www.janokti.com/wp-login.php?action=register,
    जनोक्ति.कॉम www.janokti.com एक ऐसा हिंदी वेब पोर्टल है जो राज और समाज से जुडे विषयों पर जनपक्ष को पाठकों के सामने लाता है . हमारा प्रयास रोजाना 400 नये लोगों तक पहुँच रहा है . रोजाना नये-पुराने पाठकों की संख्या डेढ़ से दो हजार के बीच रहती है . 10 हजार के आस-पास पन्ने पढ़े जाते हैं . आप भी अपने कलम को अपना हथियार बनाइए और शामिल हो जाइए जनोक्ति परिवार में !

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह वाह "तरल जी" वक्त की कसौटी पर सौ प्रतिशत खरी - बहुत सुंदर शब्द और भाव लिए बेजोड़ रचना - पढवाने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  10. मन कह रहा है इसे गाता रहूँ गुनागानाता रहूँ

    उत्तर देंहटाएं
  11. आप बतला रहे हैं जिसे गीत
    मुझे आधुनिक गीता लग रही है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. ब्लोगिंग की दुनिया में 'गहराइयां' नाम के मेरे ब्लॉग का स्वागत करने वाले सभी मित्रों को हार्दिक धन्यवाद। आप सभी ने यहाँ आकर ब्लॉग पर मेरी पहली रचना पढ़ी, आपको अच्छी लगी , आपने उसकी सराहना की यह मेरा सौभाग्य है। कृपया इसी प्रकार आते रहिये और मेरा उत्साहवर्धन करते रहिये। एक बार पुनः धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  13. इ-गुरु राजीवजी ,
    मैंने आपकी सलाह पर word verification को हटा दिया है। आशा है अब आपको टिपण्णी करने में वह कठिनाई नहीं होगी जिसका आपने जिक्र किया था। इस महत्त्वपूर्ण सलाह के लिए हार्दिक धन्यवाद। आशा है आगे भी आप मार्गदर्शन करते रहेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  14. तरुणाई का तन घायल है
    अंगड़ाई का मन घायल
    मन की निर्मलता का सच
    बचपन का भोलापन घायल
    इन घावों पर छल-फरेब का
    नीबू-नमक निचोड़ दिया

    इन पंक्तियों के समक्ष आदर से सर झुका रहा हूँ...आपकी लेखनी को नमन...आनंद आ गया...वाह...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं